क्या आप परेशान है ? यदि आपको तंत्र मंत्र ज्योतिष की किसी भी प्रकार की समस्या है तो आप गुरू जी से Mobile अथवा Whats App पर संपर्क कर सकते है ! Mobile No. +919509989296    Whats App +919509989296
vashikaran specialist in kamakhya tarapith haridwar ujjain

vashikaran specialist aghori baba tantrik in pune puna

कब करें महामृत्युंजय मंत्र जाप

 महामृत्युंजय मंत्र जपने से अकाल मृत्यु तो टलती ही है, आरोग्यता की भी प्राप्ति होती है। स्नान करते समय शरीर पर लोटे से पानी डालते वक्त इस मंत्र का जप करने से स्वास्थ्य-लाभ होता है।

दूध में निहारते हुए इस मंत्र का जप किया जाए और फिर वह दूध पी लिया जाए तो यौवन की सुरक्षा में भी सहायता मिलती है। साथ ही इस मंत्र का जप करने से बहुत सी बाधाएँ दूर होती हैं, अतः इस मंत्र का यथासंभव जप करना चाहिए। निम्नलिखित स्थितियों में इस मंत्र का जाप कराया जाता है-

(1) ज्योतिष के अनुसार यदि जन्म, मास, गोचर और दशा, अंतर्दशा, स्थूलदशा आदि में ग्रहपीड़ा होने का योग है।

(2) किसी महारोग से कोई पीड़ित होने पर।

(3) जमीन-जायदाद के बँटबारे की संभावना हो।

(4) हैजा-प्लेग आदि महामारी से लोग मर रहे हों।

(5) राज्य या संपदा के जाने का अंदेशा हो।

(6) धन-हानि हो रही हो।

(7) मेलापक में नाड़ीदोष, षडाष्टक आदि आता हो।

(8) राजभय हो।

(9) मन धार्मिक कार्यों से विमुख हो गया हो।

(10) राष्ट्र का विभाजन हो गया हो।

(11) मनुष्यों में परस्पर घोर क्लेश हो रहा हो।

(12) त्रिदोषवश रोग हो रहे हों।

महामृत्युंजय मंत्र जप में जरूरी है सावधानियां 

विशेष फलदायी है महामृत्युंजय मंत्र लेकिन महामृत्युंजय मंत्र का जप करना परम फलदायी है, लेकिन इस मंत्र के जप में कुछ सावधानियां रखना चाहिए जिससे कि इसका संपूर्ण लाभ प्राप्त हो सके और किसी भी प्रकार के अनिष्ट की संभावना न रहे।

 अतः जप से पूर्व निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए-

 1. जो भी मंत्र जपना हो उसका जप उच्चारण की शुद्धता से करें।

2. एक निश्चित संख्या में जप करें। पूर्व दिवस में जपे गए मंत्रों से, आगामी दिनों में कम मंत्रों का जप न करें। यदि चाहें तो अधिक जप सकते हैं।

3. मंत्र का उच्चारण होठों से बाहर नहीं आना चाहिए। यदि अभ्यास न हो तो धीमे स्वर में जप करें।

4. जप काल में धूप-दीप जलते रहना चाहिए।

5. रुद्राक्ष की माला पर ही जप करें।

6. माला को गौमुखी में रखें। जब तक जप की संख्या पूर्ण न हो, माला को गौमुखी से बाहर न निकालें।

7. जप काल में शिवजी की प्रतिमा, तस्वीर, शिवलिंग या महामृत्युंजय यंत्र पास में रखना अनिवार्य है।

8. महामृत्युंजय के सभी जप कुशा के आसन के ऊपर बैठकर करें।

9. जप काल में दुग्ध मिले जल से शिवजी का अभिषेक करते रहें या शिवलिंग पर चढ़ाते रहें।

10. महामृत्युंजय मंत्र के सभी प्रयोग पूर्व दिशा की तरफ मुख करके ही करें।

11. जिस स्थान पर जपादि का शुभारंभ हो, वहीं पर आगामी दिनों में भी जप करना चाहिए।

12. जपकाल में ध्यान पूरी तरह मंत्र में ही रहना चाहिए, मन को इधर-उधर न भटकाएं।

13. जपकाल में आलस्य व उबासी को न आने दें।

14. मिथ्या बातें न करें।

15. जपकाल में पुरुष स्त्री से दूर रहे , स्त्री पुरुष से दूर रहे ।

16. जपकाल में मांसाहार त्याग दें।

महामृत्युंजय जप मंत्र ---

महामृत्युंजय मंत्र का जप करना परम फलदायी है। महामृत्युंजय मंत्र के जप व उपासना के तरीके आवश्यकता के अनुरूप होते हैं। काम्य उपासना के रूप में भी इस मंत्र का जप किया जाता है। जप के लिए अलग-अलग मंत्रों का प्रयोग होता है।

महामृत्युंजय जपविधि - (मूल संस्कृत में)

कृतनित्यक्रियो जपकर्ता स्वासने पांगमुख उदहमुखो वा उपविश्य धृतरुद्राक्षभस्मत्रिपुण्ड्रः । आचम्य । प्राणानायाम्य। देशकालौ संकीर्त्य मम वा यज्ञमानस्य अमुक कामनासिद्धयर्थ श्रीमहामृत्युंजय मंत्रस्य अमुक संख्यापरिमितं जपमहंकरिष्ये वा कारयिष्ये।

॥ इति प्रात्यहिकसंकल्पः॥

 

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय ॐ गुरवे नमः।

ॐ गणपतये नमः। ॐ इष्टदेवतायै नमः।

इति नत्वा यथोक्तविधिना भूतशुद्धिं प्राण प्रतिष्ठां च कुर्यात्‌।

 

भूतशुद्धिः

 

विनियोगः

ॐ तत्सदद्येत्यादि मम अमुक प्रयोगसिद्धयर्थ भूतशुद्धिं प्राण प्रतिष्ठां च करिष्ये। ॐ आधारशक्ति कमलासनायनमः। इत्यासनं सम्पूज्य। पृथ्वीति मंत्रस्य। मेरुपृष्ठ ऋषि;, सुतलं छंदः कूर्मो देवता, आसने विनियोगः।

 

आसनः

ॐ पृथ्वि त्वया धृता लोका देवि त्वं विष्णुना धृता।

त्वं च धारय माँ देवि पवित्रं कुरु चासनम्‌।

गन्धपुष्पादिना पृथ्वीं सम्पूज्य कमलासने भूतशुद्धिं कुर्यात्‌।

अन्यत्र कामनाभेदेन। अन्यासनेऽपि कुर्यात्‌।

महामृत्युंजय मंत्र जाप / अनुष्ठान :-

महामृत्युंजय मंत्र के वर्णो (अक्षरों) का अर्थ महामृत्युंघजय मंत्र के वर्ण पद वाक्यक चरण आधी ऋचा और सम्पुतर्ण ऋचा-इन छ: अंगों के अलग अलग अभिप्राय हैं।

ओम त्र्यंबकम् मंत्र के 33 अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठर के अनुसार 33 देवताआं के घोतक हैं। उन तैंतीस देवताओं में 8 वसु 11 रुद्र और 12 आदित्यठ 1 प्रजापति तथा 1 षटकार हैं।

इन तैंतीस देवताओं की सम्पुर्ण शक्तियाँ महामृत्युंजय मंत्र से निहीत होती है जिससे महा महामृत्युंजय का पाठ करने वाला प्राणी दीर्घायु तो प्राप्त करता ही हैं । साथ ही वह नीरोग, ऐश्व‍र्य युक्ता धनवान भी होता है । महामृत्युंरजय का पाठ करने वाला प्राणी हर दृष्टि से सुखी एवम समृध्दिशाली होता है । भगवान शिव की अमृतमययी कृपा उस निरन्तंर बरसती रहती है।

महामृत्युंजय मंत्र ||

||  ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मा मृतात् ||

 

महामृत्‍युंजय मंत्र का अर्थ

समस्‍त संसार के पालनहार तीन नेत्रो वाले शिव की हम अराधना करते है विश्‍व मे सुरभि फैलाने वाले भगवान शिव मृत्‍यु न कि मोक्ष से हमे मुक्ति दिलाएं ।

महामृत्युंजय कवच

महामृत्युंजय कवच का पाठ करने से जपकर्ता की देह सुरक्षित होती है। जिस प्रकार सैनिक की रक्षा उसके द्वारा पहना गया कवच करता है उसी प्रकार साधक की रक्षा यह कवच करता है। इस कवच को लिखकर गले में धारण करने से शत्रु परास्त होता है। इसका प्रातः, दोपहर व सायं तीनों काल में जप करने से सभी सुख प्राप्त होते हैं। इसके धारण मात्र से किसी शत्रु द्वारा कराए गए तांत्रिक अभिचारों का अंत हो जाता है। धन के इच्छुक को धन, संतान के इच्छुक को पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है।

 

भैरव उवाच

श्रृणुष्व परमेशानि कवचं मन्मुखोदितम्‌ ।

महामृत्युंजयाख्यस्य न देयं परमाद्भुतम्‌ ॥

 

यं धृत्वा यं पठित्वा च श्रुत्वा च कवचोत्तमम्‌ ।

त्रैलोक्याधिपतिर्भूत्वा सुखितोऽस्मि महेश्वरि ॥

 

तदेववर्णयिष्यामि तव प्रीत्यावरानने ।

तथापि परमं तत्वं न दातव्यं दुरात्मने ॥

 

विनियोगः

अस्य श्री महामृत्युंजयकवचस्य भैरव ऋषिः ।

गायत्रीछन्दः मृत्युंजयरुद्रो महादेवो देवता ॥

महामृत्युंजयस्तोत्रम्‌ 

 ॐ अस्य श्रीमहामृत्युंजयस्तोत्रमन्त्रस्य श्रीमार्कंडेय ऋषिः ॥

 

अनुष्टुप्‌छन्दः

 

श्रीमृत्युंजयो देवता। गौरी शक्तिः। मम सर्वारिष्टसमस्तमृत्युशान्त्यर्थं

सकलैश्वर्यप्राप्त्यर्थं च जपे विनियोगः ॥

 

अथ ध्यानम्‌-

 

चंद्रार्काग्निविलोचनं स्मितमुखं पद्मद्वयान्तःस्थितं

मुद्रापाशमृगाक्ष सूत्रविलसत्पाणि हिमांशुप्रभुम्‌।

 

कोटीन्दुप्रगलत्सुधाप्लुततनुं हरादिभूषोज्ज्वलं

कान्तं विश्वविमोहनं पशुपतिं मृत्युंजयं भावयेत्‌ ।

ॐ रुद्रं पशुपतिं स्थाणुं नीलकंठमुमापतिम्‌।

नमामि शिरसा देवं किं नो मृत्युः करिष्यति ॥1॥

 

नीलकण्ठं कालमूतिं कालज्ञं कालनाशनम्‌ ।

नमामि शिरसा देवं किं नो मृत्युः करिष्यति ॥2॥

 

नीलकण्ठं विरूपाक्षं निर्मलं निलयप्रभम्‌ ।

नमामि शिरसा देवं किं नो मृत्युः करिष्यति ॥3॥

 

वामदेवं महादेवं लोकनाथं जगद्गुरुम्‌ ।

नमामि शिरसा देवं किं नो मृत्युः करिष्यति ॥4॥

 

देवदेवं जगन्नाथं देवेशं धृषभध्वजम्‌ ।

नमामि शिरसा देवं किं नो मृत्युः करिष्यति ॥5॥

alt         alt

Note - नीचे मंत्र साधनायें लिखी गई है कोई भी मंत्र साधना पढ़ने के लिये उस मंत्र पर क्लिक करे ☟

vashikaran specialist aghori baba in pune puna

vashikaran specialist real aghori tantrik in pune puna

vashikaran specialist astrologer in pune puna

vashikaran specialist aghori tantrik baba in pune puna

Real aghori baba in pune puna

dus maha vidhya sadhak in pune puna

Black Magic specialist in pune puna

worlds no 1 aghori tantrik in pune puna

worlds no 1 aghori baba in pune puna

White Magic specialist in pune puna

love marriage specialist in pune puna

love problem solution in pune puna

love guru in pune puna

no 1 aghori tantric baba in pune puna

famous aghori tantrik in Puna pune real aghori tantrik in Puna pune real aghori baba in Puna pune Best aghori tantrik in Puna pune No 1 tantrik in Puna pune number one tantrik in Puna pune tantrik guru in Puna pune black magic specialist in Puna pune bengali aghori tantrik in Puna pune world famous tantrik in Puna pune shamshan sadhak in Puna pune dus mahavidhya tantrik in Puna pune dus mahavidhya sadhak in Puna pune dusmahavidhya tantrik in Puna pune dusmahavidhya sadhak in Puna pune love marriage specialist tantrik in Puna pune love marriage expert tantrik in Puna pune love marriage specialist baba in Puna pune love marriage expert baba in Puna pune love marriage specialist aghori tantrik in Puna pune love marriage expert aghori tantrik in Puna pune love marriage specialist aghori baba in Puna pune love marriage expert aghori baba in Puna pune vashikaran specialist in Puna pune vashikaran specialist tantrik in Puna pune vashikaran specialist baba in Puna pune vashikaran specialist aghori tantrik in Puna pune vashikaran specialist aghori baba in Puna pune love vashikaran specialist in Puna pune love vashikaran specialist tantrik in Puna pune love vashikaran specialist baba in Puna pune love vashikaran specialist aghori tantrik in Puna pune love vashikaran specialist aghori baba in Puna pune No 1 tantrik in Puna pune number one tantrik in Puna pune Girlfriend vashikaran specialist in Puna pune Girlfriend vashikaran specialist tantrik in Puna pune Girlfriend vashikaran specialist baba in Puna pune Girlfriend vashikaran specialist aghori tantrik in Puna pune Girlfriend vashikaran specialist aghori baba in Puna pune boyfriend vashikaran specialist in Puna pune boyfriend vashikaran specialist tantrik in Puna pune boyfriend vashikaran specialist baba in Puna pune boyfriend vashikaran specialist aghori tantrik in Puna pune boyfriend vashikaran specialist aghori baba in Puna pune wife vashikaran specialist in Puna pune wife vashikaran specialist tantrik in Puna pune wife vashikaran specialist baba in Puna pune wife vashikaran specialist aghori tantrik in Puna pune wife vashikaran specialist aghori baba in Puna pune husband vashikaran specialist in Puna pune husband vashikaran specialist tantrik in Puna pune husband vashikaran specialist baba in Puna pune husband vashikaran specialist aghori tantrik in Puna pune husband vashikaran specialist aghori baba in Puna pune stri vashikaran specialist in Puna pune stri vashikaran specialist tantrik in Puna pune stri vashikaran specialist baba in Puna pune stri vashikaran specialist aghori tantrik in Puna pune stri vashikaran specialist aghori baba in Puna pune vashikaran love spells in Puna pune vashikaran love spells specialist in Puna pune vashikaran love spells expert in Puna pune voodoo spells in Puna pune voodoo spells specialist in Puna pune voodoo spells expert in Puna pune love spell in Puna pune love spell specialist in Puna pune love spell expert in Puna pune money spells in Puna pune money spells specialist in Puna pune money spells expert in Puna pune Astrologer in Puna pune vedic astrologer in Puna pune best astrologer in Puna pune vedic astrology in Puna pune no 1 astrologer in Puna pune Number 1 astrologer in Puna pune