क्या आप परेशान है ? यदि आपको तंत्र मंत्र ज्योतिष की किसी भी प्रकार की समस्या है तो आप गुरू जी से Mobile अथवा Whats App पर संपर्क कर सकते है ! Mobile No. +919509989296    Whats App +919509989296
vashikaran specialist in kamakhya tarapith haridwar ujjain

vashikaran specialist aghori baba tantrik in kamakhya temple assam

 असितांग भैरव साधना

यह भैरव का रूप विशेष कर भ्याकर से भ्याकर रोग को दूर करता है | असाध्य रोग नष्ट होते है | आगे रोगो से सुरक्षा आदि होती है | अगर आपका कोई परिचित असध्या रोग से पीड़ित है तो आप उस के लिए भी यह साधना कर सकते है | इसके बहुत से लाभ है | आंतरिक दंद, मानसिक रोग ,चिंता का हरण , मन में चल रही हीन भावनाए नष्ट होती है और साधक नई ऊर्जा को हर पल महसूस करता है |

विधि व नियम -

भैरव साधना में विशेष कर नियम पालन करने बहुत जरूरी होते है |इस लिए इस बात का विशेष ख्याल रखे | कई वार छोटी सी गलती भी आपके साधना कर्म को नष्ट कर देती है |
नियम –
जिस दिन आप भैरव के किसी भी रूप की साधना करे उस दिन लसुन और प्याज न खाये |
किसी का जूठा न खाये विशेष कर जूठा पानी आदि न पिये | दिन को न सोये |
प्लास्टिक के वर्तनों में भोजन आदि न करे | इन साधनायों में ताँबे आदि के वर्तन विशेष कर लाभ देते है | प्लास्टिक के पात्र किसी भी हालत में न वरते |
खटी चीजे न खाये |

साधना विधि –------

इस साधना को किसी भी शुभ दिन किया या सकता है | फिर भी मंगलवार, शनिवार, और रविवार विशेष कर ठीक रहते है |
साधना समय इसे आप रात्री 9 वजे से लेकर 12-35 तक कर ले यह समय विशेष प्रभाव कारी है |
इस साधना से पहले कोई भी पीपल आदि का पौदा किसी गमले में लगा कर पुजा स्थान पे रखे | नहीं तो किसी पीपल के पेड़ के नीचे साधना की या सकती है | उस पौदे का पूजन करे | बाद में यह पौदा कही भी मंदिर अथवा नदी आदि के किनारे लगा सकते है |
घर के मुख्य दुयार पे कुंकुम से एक त्रिशूल बनाये |
एक बेजोट पे लाल वस्त्र विषा दे | उस पे भैरव जी का चित्र स्थापत करे | उसका पूजन धूप, दीप, अक्षत , कुंकुम ,नवद्य पुष्प आदि से करे और फल आदि सेब चढ़ा दे  | पुजा के लिए लाल पुष्प इस्तेमाल करे | एक अन्य पात्र में काली सरसों के कुश दाने स्थाप्त कर दे उसका भी पूजन करे |
भोग के लिए दो लड्डू किसी पात्र में रख कर अर्पण करे एक पान के पते पे कुश लॉन्ग सुपारी छोटी ईलाची रख कर अर्पण करे  ,इसके इलवा केसर और शहत भी अर्पण करे | एक लाल वस्त्र भैरव जी को अर्पण करना चाहिए |
आप लाल वस्त्र पहन कर लाल आसन पे पूर्व दिशा की और मुख कर बैठे |
बिना माला के मानसिक जप करे | भैरव पूजन से पहले गुरु पूजन और गणेश पूजन भी करे | गुरु मंत्र का 2 माला जप करे | फिर निम्न मंत्र का 1-25 घंटे से लेकर 3 घंटे तक जप किया जा सकता है | आप अपनी सुविदा अनुसार कर ले |
 साधना के बाद भैरव जी की आरती उतारे और आपको या  आपके परिचित को जो भी रोग है या सर्व रोग शांति के लिए प्रार्थना करे |

मंत्र – ॐ भं भं सः असितांगाये नमः

साधना के बाद समस्त पूजन की हुई समग्री आप उसी लाल वस्त्र आदि में बांध कर जल प्रवाह कर दे | पीपल किसी अन्य जगह लगा दे जैसे मंदिर जा नदी आदि के किनारे |

 

अघोर वशीकरण साधना

यह साधना बहुत ही उच्च कोटि की साधना हैं वशीकरण  की, इसमें कोई दो मत हैं ही नहीं ,जिसके माध्यम से आप किसी को भी अपने नियंत्रण में ला कर  अनुकूल बना  सकते हैं,

इस साधना को किसी भी सोमबार की रात्रि  में ११ बजे के बाद प्रारंभ किया जा सकता हैं ,साधना  प्रारंभ करने से पूर्व स्नान करके लाल वस्त्र धारण  करले .

कोई एक प्लेट  ले ,जो लोहे या स्टील की बनी हो .| इसके अंदर पूरी तरह  काजल लगा दे, और निम्नाकित मंत्र  लिखे (काजल को इस प्रकार से हटा हैं की ) 

" ॐ अघोरेभ्यों  घोरेभ्यों नमः "

उस प्लेट के उपर जिस व्यक्ति का वशीकरण करना हैं उसका एक वस्त्र का टुकड़ा विछा दें | यदि ये किसी भी प्रकार से संभव न हो तो ,तो कोई भी नया  कपडे  का टुकड़ा उस  पूरी  प्लेट   पर बिछा दें. |उस के ऊपर उस व्यक्ति का नाम लिख दे, जिस पर ये प्रयोग करना हैं  ये नाम  लेखन  की  प्रक्रिया ,सिन्दूर से ही की जाना चाहिए | 

अपने सामने भगवान् शिव का कोई भी चित्र जो  भी आपके पास हो और उस व्यक्ति का भी (जिस पर ये प्रयोग किया जाना हैं ) रखे.

इसके बाद पूर्ण मनोयोग से  उसी रात्रि में , काली हकीक या रुद्राक्ष माला से  ५१  माला  निम्नाकित मंत्र जप करें.

शिवे  वश्ये  हुं  वश्ये  अमुक  वश्ये  हुं  वश्ये  शिवे  वश्ये  वश्य्मे  वश्य्मे  वश्य्मे  फट  

इस मंत्र में अमुक की जगह उस व्यक्ति का नाम  उच्चारित  करें जिसे आपको वश में करना हैं .

जब ये मंत्र जप पूर्ण हो आप  ऋषि मुंड केश और भगवान् अघोरेश्वर   से  इस साधना में  सफलता के लिए  प्राथना करें.

साधना काल के दौरान आपको कुछ आश्चर्य जनक अनुभव  हो सकते हैं, पर इनसे  न परेशान या   बिचलित न हो , ये तो साधना सफलता के  लक्षण हैं .

अघोरी

शैव संप्रदाय में साधना की एक रहस्यमयी शाखा है अघोरपंथ। 
अघोरी को कुछ लोग ओघड़ भी कहते हैं। अघोरियों को डरावना या खतरनाक साधु समझा जाता है लेकिन अघोर का अर्थ है अ+घोर यानी जो घोर नहीं हो, डरावना नहीं हो, जो सरल हो, जिसमें कोई भेदभाव नहीं हो। कहते हैं कि सरल बनना बड़ा ही कठिन होता है। सरल बनने के लिए ही अघोरी कठिन रास्ता अपनाते हैं।

जिनसे समाज घृणा करता है अघोरी उन्हें अपनाता है। लोग श्मशान, लाश, मुर्दे के मांस व कफन आदि से घृणा करते हैं लेकिन अघोर इन्हें अपनाता है। अघोर विद्या व्यक्ति को ऐसा बनाती है जिसमें वह अपने-पराए का भाव भूलकर हर व्यक्ति को समान रूप से चाहता है, उसके भले के लिए अपनी विद्या का प्रयोग करता है।

अघोर विद्या सबसे कठिन लेकिन तत्काल फलित होने वाली विद्या है। साधना के पूर्व मोह-माया का त्याग जरूरी है। मूलत: अघोरी उसे कहते हैं जिसके भीतर से अच्छे-बुरे, सुगंध-दुर्गंध, प्रेम-नफरत, ईर्ष्या-मोह जैसे सारे भाव मिट जाएं। सभी तरह के वैराग्य को प्राप्त करने के लिए ये साधु श्मशान में कुछ दिन गुजारने के बाद पुन: हिमालय या जंगल में चले जाते हैं।

अघोरी खाने-पीने में किसी तरह का कोई परहेज नहीं नहीं करता। रोटी मिले तो रोटी खा लें, खीर मिले खीर खा लें, बकरा मिले तो बकरा और मानव शव मिले तो उससे भी परहेज नहीं। यह तो ठीक है अघोरी सड़ते पशु का मांस भी बिना किसी हिचकिचाहट के खा लेता है। अघोरी लोग गाय का मांस छोड़कर बाकी सभी चीजों का भक्षण करते हैं। मानव मल से लेकर मुर्दे का मांस तक।
घोरपंथ में श्मशान साधना का विशेष महत्व है। अघोरी जानना चाहता है कि मौत क्या होती है और वैराग्य क्या होता है। आत्मा मरने के बाद कहां चली जाती है? क्या आत्मा से बात की जा सकती है? ऐसे ढेर सारे प्रश्न है जिसके कारण अघोरी श्मशान में वास करना पसंद करते हैं। मान्यता है कि श्मशान में साधना करना शीघ्र ही फलदायक होता है। श्मशान में साधारण मानव जाता ही नहीं, इसीलिए साधना में विघ्न पड़ने का कोई प्रश्न नहीं।

अघोरी मानते हैं कि जो लोग दुनियादारी और गलत कामों के लिए तंत्र साधना करते हैं अंत में उनका अहित ही होता है। श्मशान में तो शिव का वास है उनकी उपासना हमें मोक्ष की ओर ले जाती है।

अघोरी श्मशान में कौन-सी साधना करते हैं...अघोरी श्‍मशान घाट में तीन तरह से साधना करते हैं- श्‍मशान साधना, शव साधना और शिव साधना।

शव साधना : इस साधना को करने के बाद मुर्दा बोल उठता है और आपकी इच्छाएं पूरी करता है

शिव साधना में शव के ऊपर पैर रखकर खड़े रहकर साधना की जाती है। बाकी तरीके शव साधना की ही तरह होते हैं। इस साधना का मूल शिव की छाती पर पार्वती द्वारा रखा हुआ पांव है। ऐसी साधनाओं में मुर्दे को प्रसाद के रूप में मांस और मदिरा चढ़ाया जाता है।

शव और शिव साधना के अतिरिक्त तीसरी साधना होती है श्‍मशान साधना, जिसमें आम परिवारजनों को भी शामिल किया जा सकता है। इस साधना में मुर्दे की जगह शवपीठ की पूजा की जाती है। उस पर गंगा जल चढ़ाया जाता है। यहां प्रसाद के रूप में भी मांस-मंदिरा की जगह मावा चढ़ाया जाता है।

भूत-पिशाचों से बचने के लिए क्या करते हैं अघोरी...

अघोरियों के पास भूतों से बचने के लिए एक खास मंत्र रहता है। साधना के पूर्व अघोरी अगरबत्ती, धूप लगाकर दीपदान करता है और फिर उस मंत्र को जपते हुए वह चिता के और अपने चारों ओर लकीर खींच देता है। फिर तुतई बजाना शुरू करता है और साधना शुरू हो जाती है। ऐसा करके अघोरी अन्य प्रेत-पिशाचों को चिता की आत्मा और खुद को अपनी साधना में विघ्न डालने से रोकता है।

क्यों जिद्दी और गुस्सैल होते हैं अघोरी...
अघोरियों के बारे में मान्यता है कि वे बड़े ही जिद्दी होते हैं। अगर किसी से कुछ मांगेंगे, तो लेकर ही जाएंगे। क्रोधित हो जाएंगे तो अपना तांडव दिखाएंगे या भला-बुरा कहकर उसे शाप देकर चले जाएंगे। एक अघोरी बाबा की आंखें लाल सुर्ख होती हैं लेकिन अघोरी की आंखों में जितना क्रोध दिखाई देता हैं बातों में उतनी ही शीतलता होती है।

अघोरी की वेशभूषा...
कफन के काले वस्त्रों में लिपटे अघोरी बाबा के गले में धातु की बनी नरमुंड की माला लटकी होती है। नरमुंड न हो तो वे प्रतीक रूप में उसी तरह की माला पहनते हैं। हाथ में चिमटा, कमंडल, कान में कुंडल, कमर में कमरबंध और पूरे शरीर पर राख मलकर रहते हैं ये साधु। ये साधु अपने गले में काली ऊन का एक जनेऊ रखते हैं जिसे 'सिले' कहते हैं। गले में एक सींग की नादी रखते हैं। इन दोनों को 'सींगी सेली' कहते है।

अघोरपंथ तांत्रिकों के तीर्थस्थल...
अघोरपंथ के लोग चार स्थानों पर ही श्मशान साधना करते हैं। चार स्थानों के अलावा वे शक्तिपीठों, बगलामुखी, काली और भैरव के मुख्‍य स्थानों के पास के श्मशान में साधना करते हैं। यदि आपको पता चले कि इन स्थानों को छोड़कर अन्य स्थानों पर भी अघोरी साधना करते हैं तो यह कहना होगा कि वे अन्य श्मशान में साधना नहीं करते बल्कि यात्रा प्रवास के दौरान वे वहां विश्राम करने रुकते होंगे या फिर वे ढोंगी होंगे।

तीन प्रमुख स्थान :

1. तारापीठ का श्‍मशान : कोलकाता से 180 किलोमीटर दूर स्थित तारापीठ धाम की खासियत यहां का महाश्मशान है। वीरभूम की तारापीठ (शक्तिपीठ) अघोर तांत्रिकों का तीर्थ है। यहां आपको हजारों की संख्‍या में अघोर तांत्रिक मिल जाएंगे। तंत्र साधना के लिए जानी-मानी जगह है तारापीठ, जहां की आराधना पीठ के निकट स्थित श्मशान में हवन किए बगैर पूरी नहीं मानी जाती। कालीघाट को तांत्रिकों का गढ़ माना जाता है

कालीघाट में होती हैं अघोर तांत्रिक सिद्धियां

2. कामाख्या पीठ के श्‍मशान : कामाख्या पीठ भारत का प्रसिद्ध शक्तिपीठ है, जो असम प्रदेश में है। कामाख्या देवी का मंदिर गुवाहाटी रेलवे स्टेशन से 10 किलोमीटर दूर नीलांचल पर्वत पर स्थित है। प्राचीनकाल से सतयुगीन तीर्थ कामाख्या वर्तमान में तंत्र-सिद्धि का सर्वोच्च स्थल है। कालिका पुराण तथा देवीपुराण में 'कामाख्या शक्तिपीठ' को सर्वोत्तम कहा गया है और यह भी तांत्रिकों का गढ़ है।

3. रजरप्पा का श्मशान : रजरप्पा में छिन्नमस्ता देवी का स्थान है। रजरप्पा की छिन्नमस्ता को 52 शक्तिपीठों में शुमार किया जाता है लेकिन जानकारों के अनुसार छिन्नमस्ता 10 महाविद्याओं में एक हैं। उनमें 5 तांत्रिक और 5 वैष्णवी हैं। तांत्रिक महाविद्याओं में कामरूप कामाख्या की षोडशी और तारापीठ की तारा के बाद इनका स्थान आता है।

4. चक्रतीर्थ का श्‍मशान : मध्यप्रदेश के उज्जैन में चक्रतीर्थ नामक स्थान और गढ़कालिका का स्थान तांत्रिकों का गढ़ माना जाता है। उज्जैन में काल भैरव और विक्रांत भैरव भी तांत्रिकों का मुख्‍य स्थान माना जाता है।

कर्ण पिशाचिनी साधना

एक अनोखी साधना है कर्ण पिशाचिनी। इस साधना को व्यक्ति स्वयं कभी संपन्न नहीं कर सकता। उसे विशेषज्ञों और सिद्ध गुरुओं के मार्गदर्शन से ही सीखा जा सकता है। स्वयं करने से इसके नकारात्मक परिणाम भी देखे गए हैं। इस साधना को सिद्ध करने के बाद साधक में वो शक्ति आ जाती है कि वह सामने बैठे व्यक्ति की नितांत व्यक्तिगत जानकारी भी जान लेता है।ऐसा वह कैसे करता है? यह एक सहज सवाल है। वास्तव में इसके नाम से ही स्पष्ट है कि इस साधना में ऐसी शक्ति का प्रयोग होता है, जो मनुष्य नहीं है।

इस साधना की सिद्धि के पश्चात् किसी भी प्रश्न का उत्तर कोई पिशाचिनी कान में आकर देती है अर्थात् मंत्र की सिद्धि से पिशाच-वशीकरण होता है। मंत्र की सिद्धि से वश में आई कोई आत्मा कान में सही जवाब बता देती है। मृत्यु के उपरांत एक सामान्य व्यक्ति अगर मुक्ति ना प्राप्त करे तो उसकी क्षमताओं में आश्चर्यजनक वृद्धि हो जाती है। पारलौकिक शक्तियों को वश में करने की यह विद्या अत्यंत गोपनीय और प्रामाणिक है। आलेख पढ़ने वाले हर शख्स को गंभीर चेतावनी दी जाती है कि इसे अकेले आजमाने की कतई कोशिश ना करें अन्यथा मन-मस्तिष्क पर भयावह असर पड़ सकता है।एक अनोखी साधना है कर्ण पिशाचिनी। इस साधना को व्यक्ति स्वयं कभी संपन्न नहीं कर सकता। उसे विशेषज्ञों और सिद्ध गुरुओं के मार्गदर्शन से ही सीखा जा सकता है।

alt         alt

Note - नीचे मंत्र साधनायें लिखी गई है कोई भी मंत्र साधना पढ़ने के लिये उस मंत्र पर क्लिक करे ☟

vashikaran specialist aghori baba in kamakhya temple assam

vashikaran specialist real aghori tantrik in kamakhya temple assam

vashikaran specialist astrologer in kamakhya temple assam

vashikaran specialist aghori tantrik baba in kamakhya temple assam

Real aghori baba in kamakhya temple assam

dus maha vidhya sadhak in kamakhya temple assam

Black Magic specialist in kamakhya temple assam

worlds no 1 aghori tantrik in kamakhya temple assam

worlds no 1 aghori baba in kamakhya temple assam

White Magic specialist in kamakhya temple assam

love marriage specialist in kamakhya temple assam

love problem solution in kamakhya temple assam

love guru in kamakhya temple assam

no 1 aghori tantric baba in kamakhya temple assam

famous aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam real aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam real aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Best aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam No 1 tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam number one tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam tantrik guru in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam black magic specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam bengali aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam world famous tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam shamshan sadhak in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam dus mahavidhya tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam dus mahavidhya sadhak in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam dusmahavidhya tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam dusmahavidhya sadhak in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love marriage specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth love marriage expert tantrik in Kamkahya shakti peeth love marriage specialist baba in Kamkahya shakti peeth love marriage expert baba in Kamkahya shakti peeth love marriage specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth love marriage expert aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth love marriage specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth love marriage expert aghori baba in Kamkahya shakti peeth vashikaran specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vashikaran specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vashikaran specialist baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vashikaran specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vashikaran specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love vashikaran specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love vashikaran specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love vashikaran specialist baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love vashikaran specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love vashikaran specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam No 1 tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam number one tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Girlfriend vashikaran specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Girlfriend vashikaran specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Girlfriend vashikaran specialist baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Girlfriend vashikaran specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Girlfriend vashikaran specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam boyfriend vashikaran specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam boyfriend vashikaran specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam boyfriend vashikaran specialist baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam boyfriend vashikaran specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam boyfriend vashikaran specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam wife vashikaran specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam wife vashikaran specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam wife vashikaran specialist baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam wife vashikaran specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam wife vashikaran specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam husband vashikaran specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam husband vashikaran specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam husband vashikaran specialist baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam husband vashikaran specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam husband vashikaran specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam stri vashikaran specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam stri vashikaran specialist tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam stri vashikaran specialist baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam stri vashikaran specialist aghori tantrik in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam stri vashikaran specialist aghori baba in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vashikaran love spells in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vashikaran love spells specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vashikaran love spells expert in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam voodoo spells in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam voodoo spells specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam voodoo spells expert in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love spell in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love spell specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam love spell expert in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam money spells in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam money spells specialist in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam money spells expert in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Astrologer in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vedic astrologer in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam best astrologer in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam vedic astrology in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam no 1 astrologer in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam Number 1 astrologer in Kamkahya shakti peeth Mayong Guwahati assam